बेटी की बरामदगी के लिए किया चक्काजाम, पुलिस ने की धक्का-मुक्की

भिण्ड, 08 अप्रैल। गोहद थाना क्षेत्र के चितौरा गांव से एक माह पूर्व लापता हुई नाबालिग बालिका की बरामदी के लिए जहां पुलिस ने तीन दिन चक्कर लगाने के बाद नामदर्ज एफआईआर की, लेकिन बरामदी के लिए कोई प्रयास न होने पर पीडि़त पक्ष ने जिला मुख्यालय पर गुहार लगाकर धरना प्रदर्शन की चेतावनी दी। इसके बाद भी पुलिस के हरकत में न आने पर पीडि़त पक्ष ने चितौरा गांव गोहद-मौ रोड पर शुक्रवार को चक्काजाम कर दिया। पीडि़त पक्ष का चक्काजाम करना भी पुलिस को नागवार गुजरा और उसने चक्काजाम करने वालों के साथ धक्का-मुक्की कर दी, जिससे माहौल और खराब हो गया। इस धक्का-मुक्की में एक लड़की संजना पुत्री नरेश बाथम घायल हो गई। इसके बाद पुलिस ने अभियुक्त के परिजन को उठाया और थाने ले गई। पीडि़त पक्ष का कहना है कि अगर पुलिस ने लड़की बरामद नहीं की तो हम पुन: आंदोलन करेंगे।


चितौरा गांव निवासी प्रकाश बाथम की नाबालिग बालिका को गांव का ही राहुल नाम का लड़का भगाकर ले गया। जिसकी रिपोर्ट नौ मार्च को गोहद थाने में दर्ज की गई थी। इसके बाद पिता अपनी लड़की की बरामदी के लिए थाने की चौखट पर सिर रखे बैठा रहता, लेकिन किसी का जमीर नहीं जागा, जब भी उसने फरियाद की, बदले में उसे दुत्कार मिली। जब पुलिस लड़के के मामा के यहां दविश देने गई, उसका भी डीजल खर्चा पीडि़त पक्ष से लिया गया। इसका प्रमाण पेट्रोल पंप पर किया ऑनलाइन भुगतान है।