विकास यात्रा के माध्यम से हर घर, हर परिवार तक पहुंचने का प्रयास : सहकारिता मंत्री डॉ. भदौरिया

विकास यात्रा से घर-घर पहुंच रही योजनाओं की जानकारी, गांव में ही मिल रहा है लाभ
विकास रथ यात्रा के दौरान आयोजित कार्यक्रमों में 102.51 लाख से अधिक के विकास कार्यों का लोकार्पण/ शिलान्यास एवं भूमिपूजन

भिण्ड 09 फरवरी। सहकारिता एवं लोकसेवा प्रबंधन मंत्री डॉ. अरविन्द सिंह भदौरिया के नेतृत्व में विकास खण्ड अटेर के ग्राम पावई से विकास रथ यात्रा प्रारंभ हुई। उन्होंने विकास यात्रा रथ एवं लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा संचालित जल कलश यात्रा रथ का पूजन कर हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। विकास रथ यात्रा निर्धारित रूट प्लान अनुसार विकास खण्ड अटेर के ग्राम पावई से प्रारंभ होकर विरगवां, पाली एवं पिथनपुरा में समापन हुआ। विकास यात्रा का जगह-जगह पर पुष्प वर्षा एवं बाजे-गाजे के साथ स्वागत किया गया।
सहकारिता मंत्री डॉ. अरविन्द सिंह भदौरिया ने विकास यात्रा के दौरान आयोजित कार्यक्रमों में जनसेवा अभियान अंतर्गत स्वीकृति पत्रों का वितरण किया। साथ ही शासन की विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं एवं अनेक विकास कार्यों के संबंध में ग्रामीणों को जानकारी दी। उन्होंने विकास खण्ड अटेर के ग्राम पावई, विरगवां, पाली एवं पिथनपुरा में विकास रथ यात्रा के दौरान आयोजित कार्यक्रमों में 102.51 लाख से अधिक के विकास कार्यों का लोकार्पण/ शिलान्यास एवं भूमिपूजन किया। जिसमें ग्राम पावई में 8.40 लाख की लागत से दो नाला निर्माण कार्य, 4.62 लाख की लागत से सीसी रोड़ निर्माण कार्य एवं 14.75 लाख की लागत से तालाब निर्माण, ग्राम विरगवां में 20 लाख की लागत से सामुदायिक भवन निर्माण, 5.38 लाख की लागत से दो सार्वजनिक चबूतरा निर्माण एवं 7.80 लाख की लागत से आंगनवाड़ी भवन निर्माण, ग्राम पाली में 12.35 लाख की लागत से तालाब निर्माण कार्य, 9.65 लाख की लागत से तालाब जीर्णोद्धार एवं 2.15 लाख की लागत से सीसी नाली निर्माण कार्य, ग्राम पिथनपुरा में 9.15 लाख की लागत से सुदूर रोड निर्माण कार्य, 6.53 लाख की लागत से कच्चा नाला निर्माण कार्य एवं 1.73 लाख की लागत से कूल निर्माण कार्य का लोकार्पण किया।

सहकारिता मंत्री डॉ. भदौरिया ने विकास खण्ड अटेर में विकास यात्रा के दौरान आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित आमजनों को संबोधित कर कहा कि विकास यात्रा के माध्यम से सरकार हर घर, हर परिवार तक पहुंचने का प्रयास कर रही है। जनहित में सरकार द्वारा लगातार विकास के कार्य कराए जा रहे हैं। प्रत्येक पात्र व्यक्ति को शासन की योजनाओं से लाभान्वित करना है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक पात्र परिवार को चिन्हित कर शासन की जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ देना यही विकास यात्रा का उद्देश्य है। विकास की इबादत योजनाओं के माध्यम से हर घर पहुंच रही है यदि कोई किसी कारण से वंचित रह गया है तो उसे लाभ दिलाने का प्रयास यात्रा का मुख्य उद्देश्य है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मंशा है कि जिले का हर गांव आत्म निर्भर हो इसके लिए हम सबको शासन की योजनाओं का लाभ लेते हुए आर्थिक स्वावलंबी होना होगा। उन्होंने केन्द्र एवं राज्य सरकार की योजनाओं पर गहन प्रकाश डालते हुए कहा कि गांव का एक भी व्यक्ति योजनाओं के लाभ से वंचित ना रहें। यही हम सबका ध्येय है। उन्होंने गांव में मुहैया कराई जा रही बुनियादी सुविधाओं को भी रेखांकित किया, जिसमें मुख्य रूप से सड़क, बिजली, पानी व खेती के क्षेत्र में हुए नवाचारों के संबंध विस्तार से जानकारी दी।
सहकारिता मंत्री डॉ. अरविन्द सिंह भदौरिया ने कहा कि मुख्यमंत्री की मंशानुसार आठ मार्च 2023 अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस को लाड़ली बहना योजना के आवेदन लेने का कार्य शुरू किया जा रहा है। लाड़ली बहना योजना में गरीब एवं मध्यम वर्गीय परिवार की महिलाओं को प्रति माह एक-एक हजार रुपए की राशि उनके खाते में अंतरित की जाएगी। हितग्राहियों को चिन्हित करने के लिए गांव-गांव और वार्डों में जाकर आवेदन भरवाए जाएंगे। उन्होंने ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री ने हर गरीब के आंसू पोछने का कार्य किया है। हर गांव में विकास की रोशनी पहुंचाई है। मप्र आज बीमारू राज्य नहीं बल्कि एक विकसित राज्य की श्रेणी में आ खड़ा हुआ है। विकास की इस गाथा में किसी एक व्यक्ति को श्रेय दिया जाना हो तो नि:संदेह उसका श्रेय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को जाता है। उन्होंने कहा कि संवेदनशील मुख्यमंत्री ने गरीबी उन्मूलन, कुपोषण, गरीब बेटियों के विवाह और जिनका कोई नहीं है उनके लिए संबल जैसी अभूतपूर्व योजनाएं बनाकर और सफलता से क्रियान्वित कर जरूरतमंदों को लाभान्वित किया है। आज प्रदेश बिजली, पानी, सड़क के साथ जैविक खेती में भी अग्रणी है।
सहकारिता मंत्री ने कहा कि आज प्रदेश सरकार द्वारा हर समाज को सशक्त और सक्षम बनाने का कार्य किया जा रहा है। एक समय था जब लोगों को योजनाओं का लाभ नहीं मिलता था। आज हमारी सरकार में व्यक्ति को घर-घर जाकर पूछा जा रहा है कि उन्हें लाभ मिला है या नहीं। इतना ही नहीं प्रत्येक पात्रताधारी हितग्राही को लाभ दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री चौहान के नेतृत्व में लोगों को विभिन्न योजनाओं से लाभान्वित कर उनके जीवन में बदलाव लाने का कार्य भी किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अनाज के लिए कृषि सबसे जरूरी है और कृषि के लिए सिंचाई, खेतों में सिंचाई के लिए काफी पानी की जरूरत होती है। ठीक तरह से सिंचाई न होने पर फसलें खराब हो जाती हैं। लंबे समय के इंतजार के बाद कनेरा सिंचाई परियोजना को पर्यावरण मंत्रालय से अनुमति मिल गई है। इस अनुमति के बाद अब अटेर क्षेत्र के किसानों के लिए कनेरा सिंचाई उद्वहन परियोजना का कार्य शीघ्र ही प्रारंभ होगा। उन्होंने कहा कि कनेरा सिंचाई उद्वहन परियोजना के तहत अटेर क्षेत्र की लगभग 15 हजार हैक्टेयर कृषि भूमि सिंचित होगी। साथ ही वृहद स्तर पर किसानों को लाभ होगा।
सहकारिता मंत्री डॉ. अरविन्द सिंह भदौरिया ने कहा कि अटेर में 10 से 14 फरवरी तक अटेर महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। जिसके अंतर्गत कई सांस्कृतिक, एडवेंचर एवं खेलकूद गतिविधियों का आयोजन अटेर किले के नीचे एवं चंबल किनारे किया जाएगा। उन्होंने अटेर महोत्सव आयोजन में शामिल होने सभी आमजनों को आमंत्रण दिया।