गोहद की नवीन गौशाला बनीं भ्रष्टाचार का केन्द्र

गौ सेवकों ने सौंपा एसडीएम को ज्ञापन

भिण्ड, 27 जुलाई। गोहद नगर के गौसेवकों ने बुधवार को गोहद अनुविभागीय अधिकारी को ज्ञापन दिया। ज्ञापन में गौ सेवकों ने बताया कि ग्राम पंचायत बरथरा में लगभग एक करोड़ से अधिक की लागत से नवीन गौशाला बन रही, गोहद में नवीन गौशाला का एक वर्ष से निर्माण कार्य चल रहा है, परंतु अभी तक पूर्ण नहीं हो पाया है। 40 बीघा से अधिक में फैली गौशाला में एक भूसा ग्रह और सिर्फ तीन ही सेट हैं, जिसमें 100-150 गायों के रख-रखाव की व्यवस्था की जा सकती है। जबकि गोहद नगर और चौराहा पर आवारा पशुओं की संख्या 2500 से तीन हजार तक है, ऐसे में बांकी गौवंश क्या सड़क पर ही भूख प्यास एवं दुर्घटना का शिकार होकर अपने प्राण गवा देंगे। गौशाला में घायल एवं बीमार गायों के लिए कोई भी वार्ड नहीं बनाया गया है, ऐसे में बीमार एवं घायल गौवंश क्या खुले में ही अपने प्राण त्याग देंगे।
गौ सेवकों से चर्चा के उपरांत बताया कि पूर्व में इंजीनियरों के साथ मिलकर उन्होंने गौशाला का जो नक्शा बनवाया था, जिसमें करीबन तीन हजार से अधिक गायों को रख-रखाव एवं सर्दी-गर्मी और बरसात से बचाने की पूरी व्यवस्था थी। जिसको गोहद प्रशासन ने ठेकेदार के साथ मिलकर पूरी तरह बदल दिया और गोहद की गौशाला को भ्रष्टाचार का केन्द्र बना दिया। गौ सेवकों ने अनुविभागीय अधिकारी को सात दिवस के भीतर लिखित में गौशाला में व्याप्त समस्याओं के समाधान की मांग की है। ज्ञापन सौंपने वालों में अभिषेक बाथम, सौरभ गुर्जर, अकित गौड़, मदीप गुर्जर एवं अन्य गौसेवक उपस्थित रहे।