सिद्धचक्र महामण्डल विधान में की पूजा-अर्चना

भिण्ड, 12 जुलाई। अष्टान्हिका महापर्व के अवसर पर श्री 1008 सीमंधर जिनालय देवनगर कॉलोनी में बाल ब्रह्मचारी रविन्द्र आत्मन की प्रेरणा से ब्रह्मचारी जीनल शाह, देवलाली पंडित, दिनेश जैन, पं. महेश शास्त्री अमायन, पं. अंकुर शास्त्री मैनपुरी, पं. अनेकांत शास्त्री दमोह एवं स्थानीय विद्वानों के सानिध्य में 14 जुलाई तक श्री 1008 सिद्धचक्र महामण्डल विधान का आयोजन चल रहा है।
सिद्धचक्र महामण्डल विधान की पूजा अर्चना में मंगलवार को 800 अघ्र्यों से सिद्ध भगवान का गुणानुवाद किया गया और उनके जैसे बनने की भावना भायी गई। शेष 224 अघ्र्य अंतिम दिनों में समर्पण कर विधान की पूर्णता की जाएगी साथ में जाप्यानुष्ठान भी किया जाएगा। इसमें शरीर सहित व शरीर रहित भी हो सकता है, ऐसा दर्शाया गया है। सभी समाज जन उत्साह पूर्वक बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं। इस अवसर पर सुरेश चन्द्र जैन, अनिय जैन, अरविन्द जैन, विमय जैन, पंकज जैन, आनंदी जैन (एलआईसी), विवेक जैन, संदीप जैन, वैभव जैन, अक्षत जैन, ऋषभ जैन आदि महिला-पुरुष उपस्थित थे।