नाबालिगा से दुष्कर्म के मामले में आरोपी को 20 वर्ष का कारावास

न्यायालय ने आरोपी पर 51 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया

भिण्ड, 03 अगस्त। सप्तम अपर सत्र एवं विशेष न्यायाधीश पॉक्सो एक्ट जिला भिण्ड मनोज कुमार तिवारी के न्यायालय ने थाना नयागांव के प्रकरण क्र.80/2021 एसटी में विचाराण उपरांत नाबालिग बालिका के साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपी विधि का उल्लंघन करने वाले बालक (वर्तमान आयु 22 वर्ष) को धारा 328, 450 भादंसं में पांच-पांच वर्ष के सश्रम कारावास एवं 500-500 रुपए अर्थदण्ड, धारा 6 पॉक्सो एक्ट 2012 में 20 वर्ष के सश्रम कारावास एवं 50 हजार रुपए जुर्माने की सजा से दण्डित किया है। प्रकरण का संचालन जिला अभियोजन अधिकारी अरविन्द कुमार श्रीवास्तव के मार्गदर्शन में विशेष लोक अभियेाजक (पॉक्सो एक्ट) जिला भिण्ड कल्पना गुप्ता ने किया।
सहायक मीडिया सेल प्रभारी कृष्णेन्द्रपाल यादव के अनुसार अभियोजन कहानी संक्षेप में इस प्रकार है कि 11 मई 2019 को अभियोक्त्री के माता-पिता शादी में स्योंढ़ा गए थे। अभियोक्त्री एवं उसके छोटे भाई-बहन घर पर थे। भाई-बहिन छत पर सो रहे थे एवं अभियोक्त्री आंगन में सो रही थी। तभी रात्रि लगभग 12 बजे उसके मोहल्ले में रहने वाले जितेन्द्र, रोहित एवं विधि का उल्लंघन करने वाला बालक छत के रास्ते से घर में घुस आए और तीनों लोग अभियोक्त्री को पकडकर कमरे के अंदर ले गए और उसे जबरदस्ती शराब पिलाई। फिर रोहित और विधि का उल्लंघन करने वाला बालक कमरे के बाहर चले गए एवं जितेन्द्र ने उसके साथ जबरदस्ती दुष्कर्म किया। फिर तीनों आरोपी भाग गए। 13 मई 2019 को अभियोक्त्री के माता-पिता के शादी से वापस आने पर उसने उन्हें सारी घटना बताई एवं घटना की प्रथम सूचना रिपोर्ट थाना नयागांव जिला भिण्ड में लेख कराई, जो अपराध क्र.47/2019 अंतर्गत धारा 450, 328, 376डी भादंसं एवं धारा 5(जी), सहपठित धारा 6 पॉक्सो अधिनियम के तहत अभियुक्त राहित, जितेन्द्र एवं विधि का उल्लंघन करने वाले बालक के विरुद्ध दर्ज कर इस मामले की विवेचना की गई और विधि विरुद्ध बालक के खिलाफ यह मामला किशोर न्याय बोर्ड के समक्ष प्रस्तुत किया गया। उक्त प्रकरण सप्तम अपर सत्र एवं विशेष न्यायाधीश पॉक्सो एक्ट जिला भिण्ड मनोज कुमार तिवारी के न्यायालय को अंतरित कर विचारण उपरांत प्रकरण पंजीबद्ध किया गया।