विधायक ने प्रशासनिक अमले के साथ बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का किया भ्रमण

बाढ़ पीडि़तों को सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाया, भोजन पानी का भी किया इंतजाम

भिण्ड, 04 अगस्त। भिण्ड जिले में चंबल एवं सिंध नदी अपना रौद्र रूप दिखा रही हैं। दोनों नदियों के जल स्तर बढऩे से नजदीकी जिलों के पुल टूट गए, साथ ही बाढ़ जैसे हालत निर्मित हो गए, जिसका प्रभाव भिण्ड जिले में भी दिखा। इन दोनों नदियों का जल स्तर बढऩे से नदियों के पास स्थित गांव खाली कराए जा रहे हैं।
नदियों के किनारे बसे ग्रामों का भिण्ड विधायक संजीव सिंह कुशवाह ने प्रशासनिक के अमले के साथ भ्रमण किया। भ्रमण के दौरान नदियों का जल स्तर देखा, आस-पास के क्षेत्रों का मुआयन किया और जो गांव नदी में आई बाढ़ से प्रभावित हो रहे थे उन्हें खाली करवाकर पीडि़तों को सुरक्षित स्थान पहुंचाया। उन्हें भोजन एवं रहने के इंतजाम कराने के निर्देश दिए। भ्रमण में उनके साथ कलेक्टर डॉ. सतीश कुमार एस, एसपी मनोज कुमार सिंह, जिला पंचायत सीईओ जेके जैन, एसडीएम उदय सिंह सिकरवार, डीएसपी, तहसीलदार, पटवारी, थाना प्रभारी सहित पुलिस बल मौजूद रहा।
विधायक संजीव सिंह कुशवाह ने बताया कि जो गांव बाढ़ से ज्यादा प्रभावित हो चुके हैं उनका सर्वे कराकर शासन से मुआवजा दिलवाया जाएगा। मैंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को मौजूदा स्थिति से अवगत कराया है। बाढ़ पीडि़तों को अस्थायी रूप से उनके खाने एवं रहने के पुख्ता इंतजाम प्रशासन की मदद से करवाए जा रहे हैं। इसके साथ-साथ उन गांव का भी भ्रमण किया गया जो खतरे के श्रेणी में हैं, उन्हें भी अलर्ट कराया गया है, नदी का जल स्तर थमने का नाम नहीं ले रहा। नजदीकी जिलों के पुल टूटने से लोगों को दूसरे स्थान पर जाने में कठिनाई हो रही है, जो लोग बाढ़ में फंस चुके हैं उनके रेस्कयू टीम द्वारा निकालने के प्रयास जारी हैं। शासन, प्रशासन पूरी तरह से बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में ही लगा हुआ है। बाढ़ पीडि़तों ने बताया कि सन् 1971 के बाद पहली बार ऐसी भयावय स्थिति देखने को मिली है। नदियों से लगातार रेत खनन होने से नदियां बीस-बीस फुट तक गहरी हो चुकी हैं। मंहादे के पुल का भी जल स्तर बढऩे से गाडिय़ों एक ओर से खाली करवाकर पार हो रही हैं लोगों को पैदल पुल प