संचार क्रांति के जनक थे भारत रत्न स्व. राजीव गांधी : डॉ. शर्मा

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर विचार गोष्ठी आयोजित

भिण्ड, 21 मई। शहर और नगर कांग्रेस के संयुक्त तत्वावधान में भारत के पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न राजीव गांधी की 31वी पुण्यतिथि शहर जिला कांग्रेस कार्यालय पर सद्भावना दिवस के रूप में मनाई गई। इस अवसर पर विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। साथ ही समस्त कार्यकर्ताओं ने राजीव गांधी के बताए मार्ग पर चलने की शपथ ली।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे शहर कांग्रेस के अध्यक्ष डॉ. राधेश्याम शर्मा ने कहा कि स्व. राजीव गांधी अपने छोटे भाई स्व. संजय गांधी की मृत्यु के उपरांत राजनीति में आए, इसके पहले वह पायलट थे, उनका राजनीति से दूर तक कोई वास्ता नहीं था, 1982 में पहली बार अमेठी से लोकसभा के लिए चुने। राजीव गांधी का सपना था कि गांव-गांव में टेलीफोन पहुंचे और कंप्यूटर शिक्षा का प्रचार हो। राजीव गांधी के सपनों का भारत सैन्य शक्ति भी था। वह अमन के पैरोकार थे, लेकिन जानते थे कि शांति और अहिंसा की बातें मजबूत मुल्क को ही शोभा देती हैं। जिस कंप्यूटर, आईटी और टेलीफोन जैसे कई अन्य क्षेत्रों में आज हम पूरी दुनिया को टक्कर देने का दंभ भर रहे हैं वह राजीव गांधी की ही देन है। भारत के जिन नौजवानों पर आज पूरी दुनिया की नजर है, उसकी ताकत को राजीव ने बहुत पहले ही भांप लिया था।
विचार गोष्ठी में नगर कांग्रेस के अध्यक्ष संतोष त्रिपाठी ने कहा कि स्व. राजीव गांधी ने पंचायती राज की स्थापना की और महिलाओं को भी आरक्षण दिया। उन्होंने मतदान की उम्र 21 से घटाकर 18 वर्ष की, उनको संचार क्रांति का जनक कहा जाता है और आधुनिक भारत के निर्माण में भारत में पहली बार कंप्यूटर लेकर आए, विश्व शांति के क्षेत्र में भी उन्होंने काम किए और श्रीलंका में शांति स्थापित करने के लिए शांति सेना भेजी। आज जब वह हमारे बीच नहीं हैं, हम उनके बताए मार्ग पर चलने की शपथ लें और भारत के सशक्त निर्माण में सहयोग दें।
इस अवसर पर महिला कांग्रेस की अध्यक्ष रेखा भदौरिया, जिला कांग्रेस उपाध्यक्ष मनोज दैपुरिया, बृजेन्द्र सिंह कुशवाह कल्लू भारौली, अरविंद अरेले, पूर्व नपा अध्यक्ष पिंकी जाटव, पूर्व पार्षद स्नेहलता जैन, पवन चौरसिया, संजीव बरुआ, प्रदीप भदौरिया, सुखप्रीत मिश्रा, सुनील बघेल, विजय दैपुरिया, दिवाकर दीक्षित, नईम खान पठान, नीलम भदौरिया, शंकर जैन, रामजीलाल शाक्य, काजी रिजवान, अशोक गुप्ता, कासिम खान, दर्शन तोमर, कमलेश जाटव, बलराम जाटव, मोहर सिंह जाटव, अजय जैन, वीरप्रकाश श्रीवास्तव, संजय यादव, आनंद शाक्य, बृजेश कुमार, विक्रम सिंह राजावत, गोविन्द राजावत, अनिरुद्ध त्रिपाठी, कुलदीप भारद्वाज, नीरज त्रिपाठी, मनोज जैन मामा, बृजेश जैन, पिंटू शर्मा, अनिल जाटव, मनीष शर्मा, चुंटाई शर्मा, गोविन्द शाक्य, कमलेश जाट, ईशाक खान आदि कांग्रेसजन उपस्थित थे।