वीणा वादिनी से समस्त जीवो को वाणी का वरदान मिला : प्रो. शर्मा

भिण्ड, 06 फरवरी। विद्या की देवी मां सरस्वती की वंदना हमारी प्राचीन परंपरा रही है। इसी परंपरा को कायम रखते हुए बसंत पंचमी के दिन एक निजी कोचिंग संस्थान में सरस्वती वंदना और सुलेख प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इस अवसर पर हम फाउंडेशन के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष प्रो. इकबाल अली, प्रांतीय महासचिव प्रो. रामानंद शर्मा, जिला अध्यक्ष शैलेश सक्सेना, विवेकानंद शाखा अध्यक्ष विपुल सेठ, शाखा सचिव योगेश शर्मा, सचिन बघेल आदि उपस्थित थे।
कार्यक्रम की शुरुआत मां सरस्वती की प्रतिमा पर छात्रा तान्या शर्मा द्वारा माल्यार्पण किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे प्रो. रामानंद शर्मा ने बताया कि रितु ओके राजा पसंद पर मां के आगमन की खुशी में ही बसंत उत्सव मनाया जाता है। उन्होंने कहा कि मन से पढ़ाई करने व सद्बुद्ध के लिए रोजाना विद्या की देवी मां सरस्वती की पूजा अर्चना करना चाहिए। इसी क्रम में प्रो. इकबाल अली ने बताया कि मां सरस्वती विद्या और ज्ञान की देवी हैं। ऐसे ने बसंत पंचमी पर देवी सरस्वती की पूजा के दौरान उन्हें पेन और पुस्तक जरूर अर्पित करना चाहिए। इस अवसर पर योगेश शर्मा और विपुल सेठ ने भी अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम के अंत में उपस्थित छात्र-छात्राओं ने सुलेख प्रतियोगिता में भाग लिया।जिसमें प्रथम विवेक शर्मा, द्वितीय लक्ष्मी भदौरिया और तृतीय तनु यादव रहीं।