मेहगांव में सात गायों की हुई दर्दनाक मौत, मौके पर पहुंचा प्रशासन

वेटनरी विभाग के डॉक्टरों से कराया पोस्टमार्टम

भिण्ड, 07 फरवरी। मेहगांव तहसील से दो किमी दूर रसालदार पुरा में एक साथ सात गायों की मौत हो गई, जिनमें से पांच गाय और दो बछड़े भी थे। सात गायों की मौत की खबर जैसे ही ग्रामीणों को लगी वैसे ही भीड़ जमा हो गई। घटना स्थल पर गायों की दर्दनांक मौत को देखते समझ में आता है कि गायों की मौत करंट लगने के कारण हुई है। क्योंकि सभी गाय एक साथ खेत की तार फेंसिंग पर पड़ी मिलीं तथा सभी की आंखें फूटी हुई थीं, जिनसे खून बह रहा था। लोगों का मानना है कि गायों की मौत का यदि कोई अन्य कारण होता तो गाय एक ही खेत की तार फेंसिंग से चिपक कर नहीं मरती। घटना मेहगांव के हाटबाजर से दो किमी दूर रसालदार पुरा की है। इस दर्दनांक हादसे की खबर जैसे ही मेहगांव के लोगों को लगी तो इलाके में इस वीभत्स घटना की निंदा होने लगी।
गायों की दर्दनाक मौत की खबर लगते ही प्रशासन ग्राम रसालदार पुरा घटना स्थल पर मय पुलिस बल के पहुंच गया। वहीं तहसीलदार आरएन खरे, पटवारी सौरभ पचौरी, विद्युत विभाग के एई प्रमोद त्यागी, पशु डॉक्टरों की टीम के साथ-साथ नगर परिषद मेहगांव का अमला पहुंच गया। पुलिस ने डॉक्टरों की टीम को मामले की जांच कर गायों के मृत शव को नगर परिषद के अमले के साथ मौ रोड बम्बा के किनारे गड्ढे खुदवाकर दाह संस्कार करवाया।

गायों की मौत पर करवाई करने के लिए एनएसयूआई ने दिया ज्ञापन

जैसे ही एनएसयूआई कार्यकर्ताओं को गायों की दर्दनांक मौत का पता चला तो वे पुलिस थाने में मामले की जांच कर कार्रवाई करने के लिए ज्ञापन देने पहुंचे। जिसमें विधानसभा अध्यक्ष अंकित तोमर ने पुलिस से तुरंत जांच कर दोषी व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की।

इनका कहना है-

सात गायों के मरने की जानकारी मिलने के बाद पशु विभाग के डॉक्टरों की टीम पीएम के लिए भेजी गई, इसके बाद दफन कराने की कार्रवाई की गई। जांच में पता लगाया जाएगा कि गायों की मौत करंट से हुई है या नहीं। जैसा भी होगा कार्रवाई की जाएगी।
वरुण अवस्थी, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व, मेहगांव