मित्र हो तो भगवान कृष्ण और सुदामा जैसा : शास्त्री

कांग्रेस जिला महामंत्री अमित दांतरे ने किया आचार्य सेवाराम शास्त्री का स्वागत

भिण्ड, 01 दिसम्बर। मेहगांव क्षेत्र के ग्राम जल्हारीपुरा में चल रही भव्य व दिव्य भागवत महापुराण की कथा के सप्तम व अंतिम दिवस की कथा में आचार्य पं. सेवाराम शात्री महाराज ने भगवान कृष्ण और सुदामा की कथा का वर्णन किया।


कथा व्यास आचार्य सेवाराम शात्री ने कहा कि आज के युग मे बराबरी के लोगों के साथ मित्रता करते है, बैंक बैलेंस की फिक्र करते है, जबकि भगवान कृष्ण और सुदामा की दोस्ती आज के युग मे हमें बहुत बड़ी सीख देती है। दोनों के बीच में इतने बड़े अंतर को उन्होंने पल भर में भुला कर सुदामा जी को गले लगाया। वास्तव में सुदामा जी का भी चरित्र हम सबके लिए प्रेरक है। उन्होंने बताया कि परीक्षत सुदामा डंडोतिया ने भागवत पुराण की कथा सुनवाकर अपने साथ समस्त क्षेत्र व ग्राम वासियों के जीवन धन्य कराया है। कथा श्रवण करने पहुंचे कांग्रेस जिला महामंत्री अमित दांतरे पिंकी ने आचार्य पं. सेवाराम शास्त्री का स्वागत कर कथा श्रवण की। आज अंतिम दिन की कथा को श्रवण करने के लिए हजारों लोग दूरदराज से पधारे।