गोहद में खाद पर लगाया पुलिस का पेहरा, अन्नदाता परेशान

थाना प्रभारी ने मण्डी कर्मचारी को दिया धक्का, एसडीएम ने कराया मामला शांत

भिण्ड, 14 अक्टूबर। रवि के सीजन के चलते किसानों का बोवनी का कार्य शुरू हो गया गया है। ऐसे में किसानों के लिए खाद भूखे के लिए भोजन जैसा है। खाद की व्यवस्था के लिए प्रशासन ने पुलिस की मदद मांगी। लेकिन थाना प्रभारी ने व्यवस्था बनाने की जगह बिगाड़ दी होती, क्योंकि थाना प्रभारी ने मण्डी कर्मी से धक्का मुक्की कर दी, अपना परिचय मंडी कर्मचारी के रूप में देने के बाद भी थाना प्रभारी ने कर्मचारी के साथ अभद्रता कर दी। मंडी कर्मचारी ने पूरी घटना एसडीएम को बताई तब जाकर एसडीएम ने मामले को रफा दफा करवाया।
ज्ञात हो कि किसानों के लिए डीएपी खाद की रेट 1205 रुपए शासन द्वारा निर्धारित की गई है। सरकारी सोसाइटियों पर इसी रेट पर किसानों को खाद दिया जा रहा है। लेकिन गोहद नगर में संचालित मार्केटिंग सोसाइटी पर किसानों को पर्याप्त डीएपी खाद नहीं मिल रहा है। खाद की किल्लत के चलते किसान सुबह से ही खाद पर लगने वाली लाइन में लग जाता है, सुबह से खाद की लाइन में लगते लगते किसान को रात हो जाती है मगर फिर भी किसानों को खाद नहीं मिल पा रहा है। खाद को लेकर किसानों की भीड़ को देखते हुए प्रशासन पुलिस के पहरे में खाद बांट रहा है। बड़े कृषि खाताधारक किसानों को पांच कट्टे खाद व छोटे कृषि खाताधारक किसानों को दो कट्टे ही खाद के दिए जा रहे है। मजबूर किसान को प्रशासन द्वारा दिए जा रहे खाद के कट्टो में ही संतोष करना पड़ रहा है। ऐसे किसान मजबूर होकर प्राइवेट दुकानों से खाद खरीद रहे हैं। बाजार में प्राइवेट दुकानों पर किसानों को डीएपी की बोरी 1500 रुपए में दी जा रही है। इसी प्रकार दुकानों पर किसानों को यूरिया खाद भी 272 रुपए की जगह 350 रुपए में मिल रही है। दिलचस्प बात यह है कि इस बात की जानकारी प्रशासनिक अधिकारियों को होने के बावजूद प्राइवेट दुकानदारों के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। बोवाई का समय अभी चल रहा है ऐसे समय किसानों को डीएपी और यूरिया खाद की जरूरत पड़ती है। इसके बाद भी कृषि विभाग समय रहते सोसाइटी पर किसानों के लिए पर्याप्त खाद की व्यवस्था नहीं करा सका। ऐसे में क्षेत्र के किसानों को मजबूरी में प्राइवेट दुकानदारों से महंगे दामों में डीएपी और यूरिया खाद खरीदना पड़ रही है।

इनका कहना है-

1205 रुपए के खाद के कट्टे को 1500 में बेचने की सूचना पर कुछ प्राइवेट दुकानों को चेक किया, लेकिन यह खबर गलत निकली। व्यवस्था बनाने के लिए में आज सुबह से ही गल्ला मंडी परिसर में रहा 1000 से अधिक किसानों को खाद बाटा गया अभी भी बॉट रहे है। किसानों के लिए आज पानी व टेंट की व्यवस्था की गई थी।
शुभम शर्मा, एसडीएम गोहद