रेशम के कच्चे धागों से बंधा प्रेम का रिश्ता है राखी

हम फाउण्डेशन ने वृद्धजनों के बीच पहुंचकर मनाया रक्षाबंधन पर्व

भिण्ड, 21 अगस्त। रक्षाबंधन कहने को तो एक ऐसा पर्व है, जिसमें एक धागा जो बहन अपने भाई के हाथ पर बांधती है, लेकिन यह पर्व भाई-बहन के रिश्ते को और भी मजबूत बनाता है। रक्षाबंधन पर्व की अवसर पर हम फाउण्डेशन शाखा विधि द्वारा निराश्रित भवन में उपस्थित वृद्ध जनों के बीच पहुंचकर रक्षा सूत्र बांधे गए। शाखा उपाध्यक्ष आशा भदौरिया और कोषाध्यक्ष श्रीमती राजकुमारी जैन ने वहां उपस्थित सभी वृद्धजनों की कलाई पर राखी बांधी और हम फाउण्डेशन के सदस्यों ने राखी बंधवा कर उन्हें उपहार स्वरूप शॉल, नगद राशि के अलावा मिष्ठान भी वितरित किए।


रक्षाबंधन पर्व के अवसर पर हम फाउण्डेशन के प्रदेश उपाध्यक्ष प्रो. इकबाल अली ने कहा कि यह पावन पर्व भाई-बहन के अटूट प्रेम को दर्शाता है। यह भाई बहन तक सीमित ना होकर सीमा पर देश की सुरक्षा के लिए जान न्यौछावर करने वाले रक्षा बलों के जवानों के बीच हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। शाखा संरक्षक प्रो. रामानंद शर्मा ने कहा कि रक्षाबंधन का पर्व अस्मिता और इसमें के बंधन से रिश्तों को मजबूती प्रदान करने का पर्व है। इसी क्रम में वरिष्ठ एडवोकेट महेन्द्र चौधरी ने कहा कि रक्षाबंधन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है, भगवान विष्णु ने वामन अवतार धारण कर राजा बलि के अभिमान को चकनाचूर किया था।
शाखा अध्यक्ष शैलेश सक्सेना ने कहा कि हमारा हम फाउण्डेशन सामाजिक संगठन हमेशा त्योहारों पर मानव सेवा के निरंतर कार्य कर रही है, दीन दुखियों की सेवा ही भगवान की सेवा के बराबर है। कार्यक्रम में शाखा सरंक्षक कैलाश जैन, शाखा उपाध्यक्ष आशा भदौरिया, योगेश शर्मा, कोषाध्यक्ष श्रीमती राजकुमारी जैन, श्याम सिंह ने भी अपने विचार व्यक्त किए।