मिहोना तहसीलदार के कार्य व्यवहार से परेशान अभिभाषक एवं आमजन बैठे धरने पर

भिण्ड, 10 फरवरी। तहसीलदार मिहोना के कार्य व्यवहार से परेशान अभिभाषक व आम नागरिक गत 23 जनवरी से तहसील प्रांगण मिहोना में धरने पर बैठे हुए हैं। तहसीलदार रवीस भदौरिया ने तहसील मिहोना में विचाराधीन प्रकरणों को बिना पक्षकार बुलाए बिना अभिभाषकों को बुलाए 300 से अधिक प्रकरण निरस्त कर दिए हैं। राजस्व निरीक्षक बलराम दोहरे ने अधिकतर प्रकरणों के आर्डर शीट स्वयं लिखी है तथा हस्ताक्षर तहसील मिहोना से कराए हैं। तहसीलदार एक भी दिन तहसील मिहोना में डाइस पर नहीं बैठे, जिससे क्षेत्रीय जनता को काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है। शासन की योजना का लाभ जनता तक नहीं पहुंच रहा है, इस कारण तहसील रवैया से परेशान होकर क्षेत्रीय जनता व अभिभाषक मिहोना ने गत 23 जनवरी से धरना प्रारंभ कर दिया है।
धरने पर बैठने से पूर्व अभिभाषकों ने तहसील मिहोना विरुद्ध एसडीएम लहार, कलेक्टर भिण्ड व कमिश्नर मुरैना को लिखित ज्ञापन पत्र दिए। लेकिन अभी तक तहसील मिहोना के खिलाफ कोई कार्रवार्अ नहीं की गई। धरने पर बैठे अभिभाषक बीपी सिंह कुशवाह, नरोत्तमदास पचौरी, सुरेश दीक्षित, सत्यनारायण बोहरे, अशोक पचौरी, दीपक शर्मा, हरिओम बसेडिय़ा एवं समस्त अभिभाषकगण, क्षेत्रीय नागरिकों ने तहसीलदार मिहोना के विरुद्ध कार्रवाई की मांग की है।