आज के युवाओं को संस्कार की है आवश्यकता : आचार्य बरुआ

भिण्ड, 10 फरवरी। गोरमी क्षेत्र के ग्राम दले का पुरा में चल रहे त्रिदिवसीय सनातन हिन्दू वैदिक धर्म संत सम्मेलन में पं. कुंजबिहारी बरुआ ने कहा कि आज के युवा संस्कार से दूर होते जा रहे हैं, संस्कार से संपन्न युवा ही एक अच्छी राष्ट्र का निर्माण करने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। आज के युवा को भगवान श्रीराम, भैया भरत का पावन चरित्र सुनना चाहिए, क्योंकि जब हम रामराज्य की बात करते हैं। गांधी जी जिस राम राज्य की बात करते थे उस रामराज्य को जानने के लिए हमें रामकथा को सुनना पड़ेगी, पढऩा होगी। उनका पावन चरित्र सुनने के बाद जीवन में उतारना होगा। तभी हम एक सच्चे राष्ट्रवादी राम भक्त बन सकते हैं।
पं. सीताराम शरण जी महाराज ने कहा कि आज के लोग आधुनिकता की ओर अंधी दौड़ में दौड़ रहे हैं, इन सबको पुन: भारतीय परंपराओं को अपनाना पड़ेगा, तभी अपने जीवन को सुंदर और स्वच्छ बना पाएंगे। कार्यक्रम में श्री श्याम दासजी महाराज आदि संत भी विराजमान रहे।