रामसेतु और राम को काल्पनिक बताने वाली भाजपा देश से माफी मांगें : डॉ. भारद्वाज

कांग्रेस ने भाजपा नेताओं की सद्बुद्धि के लिए मन्दिर में सुंदरकाण्ड और हनुमान चालीसा का पाठ किया

भिण्ड, 27 दिसम्बर। भाजपा सिर्फ राजनीतिक लाभ लेने के लिए भागवान राम और धर्म का सहारा लेती है, जबकि वास्तव में न ये राम को मानते हैं और न हिन्दू धर्म को। अगर राम को मानते तो रामसेतु और भगवान श्रीराम के पुख्ता सबूत नहीं मांगते, वे राम को काल्पनिक बता रहे हैं, उन्हें देश से मांगनी चाहिए। यह बात कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता डॉ. अनिल भारद्वाज के नेतृत्व में भाजपा नेताओं की सद्बुद्धि के लिए आयोजित प्राचीन जामना हनुमान मन्दिर में सुंदर काण्ड और हनुमान चालीसा पाठ के उपरांत कांग्रेस नेताओं ने कही।
कांग्रेस प्रवक्ता डॉ. भारद्वाज ने कहा कि जब यह बात कांग्रेस सरकार में कही गई थी तो हमें राम विरोधी बताया गया था। जबकि हमने भाजपा की ही पूर्व अटल बिहारी वाजपेई सरकार के फैसले को बढ़ाया था और जनमानस की भावनाओं को समझकर वापिस भी लिया। परंतु तथाकथित राम भक्तों की सरकार अब क्यों भगवान श्रीराम और रामसेतु पर संसद में सबूत मांग रही है। भाजपा राम और हिन्दू धर्म की विरोधी है। सिर्फ चुनावों के समय उनकी याद आती है उसके बाद उनका अपमान करती है।

मप्र के शिक्षा मंत्री को वर्खास्त करे भाजपा

कांग्रेस प्रवक्ता डॉ. अनिल भारद्वाज ने कहा कि प्रदेश सरकार के फर्जी राम भक्त शिक्षा मंत्री मोहन यादव माता सीता को तलाकशुदा बताकर आत्महत्या करने की बात कह रहे हैं, इन्हें तत्काल कैबिनेट से बर्खास्त करें।

संघ बताए क्या अब भी भाजपा के साथ है

कांग्रेस नेताओ ने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) पर निशाना साधते हुए कहा कि संघ अपने आपको हिन्दू धर्म और भगवान राम का अनुयायी बताता है। अब राम का अपमान और सीता माता का अपमान करने वाली भाजपा और उनके मंत्रियों के साथ हैं क्या? इस दौरान सेवादल कांग्रेस के जिलाध्यक्ष संदीप मिश्रा, जिला महामंत्री राजेश शर्मा, शैलेन्द्र भदौरिया, आईटीसेल से दीपू दुबे, संजीव बरुआ, लीगल सेल के अध्यक्ष एडवोकेट हिमांशु शर्मा, पूर्व जिला महामंत्री अजय शर्मा, पिंटू शर्मा, सत्यनारायण सेंथिया, शास्त्री उमाशरण किंकर, जयवीर भदौरिया, गंभीर सिंह कुशवाह, बलवीर राजावत, पूर्व सरपंच दिनेश शर्मा दादा, अजीत भदौरिया, हर्ष शर्मा, अमित सिंह निर्माण सिंध खैरिया, सूर्यप्रकाश सिंह कुशवाह बेटू आदि ने उपस्थित होकर पाठ में भाग लिया।