रामसेतु पर प्रश्न चिन्ह लगाकर केन्द्र सरकार का राम विरोधी चेहरा उजागर : डॉ. भारद्वाज

भाजपा नेताओं की सद्बुद्धि हेतु कांग्रेस हनुमान मन्दिर में कल करेगी हनुमान चालीसा पाठ

भिण्ड, 26 दिसम्बर। भाजपा सिर्फ राजनीतिक लाभ लेने के लिए भागवान राम और धर्म का सहारा लेती है, जबकि वास्तव में न ये राम को मानते हैं और न हिन्दू धर्म को। अगर राम को मानते तो रामसेतु और भगवान श्रीराम के पुख्ता सबूत नहीं मांगते। ये आरोप कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता डॉ. अनिल भारद्वाज ने लगाए।
डॉ. भारद्वाज ने कहा कि जब यह बात कांग्रेस सरकार में कही गई थी तो हमें राम विरोधी बताया गया था। जबकि हमने भाजपा की ही पूर्व अटल बिहारी वाजपेई सरकार के फैसले को बढ़ाया था और जनमानस की भावनाओं को समझकर वापिस भी लिया। परंतु तथाकथित राम भक्तों की सरकार अब क्यों भगवान श्रीराम और रामसेतु पर संसद में सबूत मांग रही है। भारद्वाज ने कहा कि सरकार के राम भक्त यह कह रहे हैं कि रामसेतु के पुख्ता सबूत नहीं है। अब उनकी इन बातों को किस श्रेणी में रखा जाएगा। इस मामले में भाजपा को देशवासियों से माफी मांगनी चाहिए।
कांग्रेस प्रवक्ता डॉ. अनिल भारद्वाज के आह्वान पर मंगलवार को सुबह 10.30 पर जामना हनुमान मन्दिर पर कांग्रेस कार्यकर्ता और रामभक्त केन्द्र की मोदी सरकार की सद्बुद्धि हेतु सुंदरकाण्ड और हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे। जिसमें अधिक से अधिक संख्या में कार्यकर्ताओं से उपस्थित होने की अपील की गई है।