श्रीकृष्ण ने चीर उढ़ाकर की द्रोपदी की मर्यादा की रक्षा

मेहगांव में बेटियों को चीर उढ़ाकर रक्षा करने का लिया संकल्प

भिण्ड, 30 जून। मंशापूर्ण हनुमान मन्दिर मुरैना तिराहे मेहगांव में चल रही श्रीमद् भागवत ज्ञान यज्ञ में गुरूवार को कथा वाचक श्री रामप्रकाश व्यास ने द्रोपदी चीर हरण लीला का वर्णन वर्तमान परिप्रेक्ष्य में करते हुए कहा कि राजसभा में जब कुल बधू द्रोपदी का चीर खीचा जाने लगा और द्रोपदी की गुहार जब राजदरबार ने नहीं सुनी, तब उसने श्रीकृष्ण को पुकारा और श्रीकृष्ण ने द्रोपदी को चीर उढ़ाकर एक बेटी की मर्यादा की रक्षा की।


श्री व्यास ने द्रोपदी चीर हरण लीला को वर्तमान परिप्रेक्ष्य में जोड़ते हुए कहा कि हमें भी बेटियों को रक्षा करने का संकल्प लेकर बेटी बचाओ के नारे को सार्थक करना है। श्रीकृष्ण ने चीर चुराया नहीं, बल्कि द्रोपदी को चीर उढ़ाकर उसकी मर्यादा की रक्षा की। आज की लीला से शिक्षा लेकर कथा स्थल श्री मंशापूर्ण हनुमान मन्दिर पर बेटियों को चीर उढ़ाकर कर उनकी रक्षा का संकल्प लिया गया। कथा सुनकर श्रोता मंत्रमुग्ध नजर आए। इसके पश्चात श्री गोवर्धन महाराज की पूजा अर्चना भक्तिभाव से की गई और महारास का सजीव जीवंत व हृदय स्पर्शी मार्मिक वर्णन सुनकर श्रोताओं का आनंद देखते ही बनता था।