नाबालिगा से दुष्कर्म करने वाले आरोपी को 20 वर्ष का कारावास

रायसेन, 28 जून। अनन्य विशेष न्यायाधीश (लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012) जिला रायसेन श्रीमती नौशीन खान के नाबालिग लड़की को बहला-फुसलाकर साथ ले जाने एवं उसके साथ दुष्कर्म करने वाले न्यायालय ने आरोपी हुकुम सेन पुत्र बैजनाथ सेन उम्र 29 वर्ष निवासी ग्राम सईदपुर, थाना गैरतगंज, जिला रायसेन को दोषसिद्ध पाये जाने पर धारा 376(3) भादंसं एवं लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012 की धारा 3/4 के अंतर्गत आरोपी को 20 वर्ष का सश्रम कारावास एवं पांच हजार रुपए जुर्माने से दण्डित किया है। इस प्रकरण में राज्य की ओर से श्रीमती भारती गेडाम, विशेष लोक अभियोजक जिला रायसेन द्वारा पैरवी की गई।
अभियोजन मीडिया प्रभारी जिला रायसेन श्रीमती किरण नंदकिशोर के अनुसार प्रकरण का संक्षेप में विवरण इस प्रकार है कि अभियोक्त्री के पिता ने थाना कोतवाली रायसेन में गुमशुदगी रिपोर्ट इस आशय की दर्ज कराई कि 24 अप्रैल 2021 सुबह 6:30 बजे वह और उसकी पत्नी तथा बच्चे उसके राहुल नगर रायसेन स्थित अपने घर पर थे, तभी अभियोक्त्री आयु 16 वर्ष बकरियां बांधने के लिए घर से बाहर निकली और बकरियां बाधकर बिना बताए कहीं चली गई। अभियोक्त्री की आस-पास, रिश्तेदारों में तलाश की, किंतु उसका कोई पता नहीं चला। उसे शंका है कि आरोपी हुकुम उसकी पुत्री को बहला-फुसलाकर भगा कर ले गया है, जिसके आधार पर थाना कोतवाली रायसेन में आरोपी के विरुद्ध अपराध क्र.167/2021 अंतर्गत धारा 363 भादंसं की प्रथम सूचना रिपोर्ट लेखबद्ध की गई एवं प्रकरण पंजीबद्ध किया गया। पीडि़ता ने दस्तयाब होने के पश्चात बताया कि आरोपी उसे अपने साथ बहला फुसलाकर रायसेन के किले पर ले गया था और वहां पर उसके साथ जबरदस्ती दुष्कर्म किया। इस घटना के बारे में उसके माता-पिता और बहन को बताया था, उन लोगों ने भी घटना का समर्थन किया। पीडि़ता की मेडिकल जांच कराई गई, जिसमें एफएसएल एवं डीएनए रिपोर्ट पॉजिटिव आई, इस प्रकार पीडि़ता के साथ हुई घटना से मौखिक एवं दस्तावेजी वैज्ञानिक साक्ष्य के आधार पर पुष्टि हुई कि आरोपी द्वारा पीडि़ता जो कि नाबालिग है, उसके साथ आरोपी द्वारा उक्त घटना कारित की गई।