लाड़ली ताक्क्षा ने मां तुझे प्रणाम के तहत किया बाघा बॉर्डर का भ्रमण

भिण्ड, 09 मई। प्रदेश सरकार बेटियों को उनकी शिक्षा-दीक्षा, आर्थिक रूप से सशक्त बनाने तथा आत्म निर्भर बनाने हेतु अनेकों योजनाएं संचालित कर विकास के नए अवसर प्रदान कर रही है। समाज में बेटियों का सम्मान बढ़ा है अब माता-पिता भी बेटियों को बोझ नहीं मानते हैं।
कु. ताक्क्षा पटेल पुत्री चंद्रशेखर निवासी आदर्श कॉलोनी इटावा रोड भिण्ड उम्र 15 वर्ष ने बताया कि महिला एवं बाल विभाग द्वारा मां तुझे प्रणाम योजनांतर्गत बाघा बॉर्डर जाने के लिए परिवार की सहमति मिलने पर उनका नाम भोपाल भेजा गया था। मेरा चयन मां तुझे प्रणाम योजना के तहत बाघा बॉर्डर भ्रमण के लिए हुआ। मैं बाघा बॉर्डर भ्रमण के लिए बहुत उत्साहित थी। ताक्क्षा पटेल ने बताया कि अभी तक मैंने सिर्फ बाघा बॉर्डर को फिल्मों तथा अन्य प्रसारण के माध्यम से ही देखा था, लेकिन मुझे प्रत्यक्ष रूप से बाघा बॉर्डर देखने का अवसर मिला। उन्होंने बताया कि मैं बहुत खुश हूं कि प्रदेश सरकार द्वारा लाड़ली लक्ष्मी योजना चलाकर बेटियों को आगे बढऩे के लिए अनेक अवसर प्रदान किए जा रहे हैं। लाड़ली लक्ष्मी योजना प्रदेश सरकार की एक ऐसी अनूठी योजना है। जिसमें बालिकाओं की शिक्षा एवं विवाह तक की चिंता प्रदेश सरकार द्वारा की जा रही है। साथ ही समय-समय पर बालिकाओं के कौशल उन्नयन प्रशिक्षण, पर्यटन स्थल पर भ्रमण आदि के माध्यम से बालिकाओं का ज्ञानवर्धन किया जा रहा है।