लोग राम को मानते हैं, मगर राम की नहीं मानते : कटारे

जुगे का पुरा में चल रही है श्रीमद् भागवत कथा

भिण्ड, 14 फरवरी। मेहगांव क्षेत्र ग्राम जुगे का पुरा में चल रही श्रीमद् भागवत कथा में सोमवार को पं. रामअवतार कटारे ने भगवान श्रीराम जन्म का वर्णन किया। उन्होंने कहा कि राजा दशरथ ने पुत्र जन्म की खुशी में अमिट दान देकर आनंद प्राप्त किया। विश्वमित्र का राजा दशरथ से राम-लक्ष्मण को लेकर जाना ताड़का, सुवाहू बध, मारीच को सागर पार भेजा, धनुष भंग, सीताराम विवाह, वन गमन, चित्रकूट में राम-भरत मिलन, रावण वध, रामराज्य अभिषेक सहित कथा सबिस्तार सुनाई। मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम का जीवन मर्यादाओं का पलन करते हुए धर्म की स्थापना व प्रजापालक की श्रैष्ठता से परिपूर्ण रहा, आज के परिवेश में रामायण घर-घर में पढ़ी जाती है, लोग राम को मानते हैं, मगर राम की नहीं मानते, मानव जीवन की सार्थकता तभी सिद्ध होगी जब हम सब राम की बात मानते हुए रामराज्य की स्थापना की ओर आगे बढ़ें।
भगवान योगेश्व श्रीकृष्ण जन्मोत्सव पर नंद के आनंद भयो जय कन्हैया लाल की ध्वनि से समूचा पंडाल गुजांयमान होने लगा, तत्पश्चात झांकी प्रस्तुती में बाल स्वरूप भगवान श्रीकृष्ण के दर्शन कर भक्तगण भगवान श्रीकृष्ण के जयकारे लगाने लगे। पारीक्षत राजेश शुक्ला ने भगवान श्रीकृष्ण को गोद में लेकर नृत्य किया। तत्पश्चात टीकरी महाराज कमलदास जी से सभी श्रोताओं ने आशीर्वाद लिया। इस मौके पर कांग्रेस के जिला महामंत्री अमित दांतरे पिंकी ने शॉल श्रीफल से पं. रामअवतार कटारे का स्वागत किया। सभी ने भगवान श्रीकृष्ण जन्म पर आरती की।